रामनगर गर्जिया मंदिर के स्थायी उपचार के लिए डीएम ने उठाए कदम

Share this content ( कंटेंट साझा करें )

संतोष बोरा , नैनीताल / रामनगर ( nainilive.com ) – रामनगर से 14 किमी की दूरी पर स्थापित ऐतिहासिक मां गर्जिया देवी मन्दिर जो कि पहाडी पर स्थापित है में आयी दरार के बेहतर एवं स्थाई उपचार के लिए जिलाधिकारी धीराज सिह गर्ब्याल ने कदम उठाया है।

यह भी पढ़ें : चमोली आपदा के संकेत पहले ही अपनी किताब के जरिए दे चुके थे:इतिहासकार गिरधर नेगी

यह भी पढ़ें : मौसम में परिवर्तन के चलते बीडी पांडे अस्पाल में बड़ी मरीजो की संख्या

उन्होने प्रो. सत्येन्द्र मित्तल विभागाध्यक्ष सिविल इंजीनियरिंग विभाग आईआईटी रूडकी को पत्र पे्रषित किया है। जिलाधिकारी ने प्रो0 मित्तल को प्रेषित पत्र में उल्लेख किया है कि गर्जिया देवी मन्दिर ऐतिहासिक एवं पौराणिक होने के कारण स्थानीय निवासियों एवं अन्य लोगों की मन्दिर से आस्था जुडी हुई है। मन्दिर मे अत्यधिक संख्या में वर्षभर श्रद्वालुओं का आवागमन बना रहता है।

यह भी पढ़ें :नरेंद्र सिंह बिष्ट हुए सर्वश्रेष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता पुरूस्कार -2021 से सम्मानित

यह भी पढ़ें :प्रतीक जैन होंगे नैनीताल के नए उपजिलाधिकारी, विनोद कुमार बने कोश्या कुटोली के उपजिलाधिकारी

अपने पत्र में जिलाधिकारी ने उल्लेख किया है कि विगत कई समय से गर्जिया मन्दिर की पहाडी जिसमे मन्दिर स्थापित है मे स्थान-स्थान पर दरारें परिलक्षित हो रही है जिस कारण निकट भविष्य मे मन्दिर को खतरा होने की सम्भावनाओं से इन्कार नही किया जा सकता है। मन्दिर का ऐतिहासिक एवं पौराणिक महत्व है अतः मन्दिर की पहाडी पर दरारोें की जांच एवं सुरक्षात्मक उपाय किया जाना नितांत आवश्यक है। अतः आपसे अनुरोध है कि शीघ्रता-शीघ्र गर्जिया देवी मन्दिर रामनगर की सर्वे/जांच करते हुये सुरक्षात्मक उपायों हेतु कार्ययोजना तैयार किये जाने हेतु आईआईटी रूडकी की विशेषज्ञ टीम को रामनगर भेज दें। इस महत्वपूर्ण कार्य पर होेने वाले व्यय का भुगतान जिला प्रशासन द्वारा किया जायेगा।

डीएम गर्ब्याल ने बताया कि मन्दिर के संरक्षण के लिए सरकार गम्भीर है। मुख्यमंत्री स्तर से इस महत्वपूर्ण कार्य की समीक्षा की जा रही है। उनके निर्देश पर रूडकी के विशेषज्ञों से सर्वे कराकर प्रभावी कार्यवाही की जायेगी। प्रशासन भी इस हेतु तत्पर है।