डीएम गर्ब्याल ने कहा सभी को मिले गुणवत्तायुक्त एवं पीने योग्य पानी

Share this content ( कंटेंट साझा करें )

संतोष बोरा , नैनीताल ( nainilive.com) – जल जीवन मिशन के अन्तर्गत जनपद के सभी घरों को शीघ्रता से गुणवत्तायुक्त एवं पीने योग्य पानी पहुॅचाना सुनिश्चित करें। यह निर्देश जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने जल जीवन मिशन के अन्तर्गत जल संस्थान एवं पेयजल निगम द्वारा जनपद में संचालित कार्यों एवं प्रस्तावित कार्यों की मंगलवार को कलैक्ट्रेट सभागार में गहनता से समीक्षा करते हुए दिये।

यह भी पढ़ें :नरेंद्र सिंह बिष्ट हुए सर्वश्रेष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता पुरूस्कार -2021 से सम्मानित

यह भी पढ़ें :प्रतीक जैन होंगे नैनीताल के नए उपजिलाधिकारी, विनोद कुमार बने कोश्या कुटोली के उपजिलाधिकारी

डीएम ने निर्देशित करते हुए कहा कि जल जीवन मिशन के तहत हर घर तक पानी पहुॅचाने के साथ-साथ जल संरक्षण एवं संचयन जैसी योजनाओं पर भी प्राथमिकता से कार्य किया जाये। उन्होंने योजना के अन्तर्गत चल रहे कार्यों में गुणवत्ता एवं समयबद्धता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को दिये। उन्होंने योजना के अन्तर्गत आंगनबाड़ी केन्द्रों तथा स्कूलों का कार्य मार्च माह के अन्त तक पूर्ण करने के निर्देश दिये।

यह भी पढ़ें : चमोली आपदा के संकेत पहले ही अपनी किताब के जरिए दे चुके थे:इतिहासकार गिरधर नेगी

यह भी पढ़ें : मौसम में परिवर्तन के चलते बीडी पांडे अस्पाल में बड़ी मरीजो की संख्या

उन्होंने योजना के अन्तर्गत 10 मार्च तक विलेज एक्शन प्लान तैयार कराने के निर्देश भी अधिकारियों को दिये। उन्होंने जनपद की सभी पंचायतों का जल जीवन मिशन के अन्तर्गत अलग खाता खुलवाने, ई-मेल आईडी, पंचायत निधि खाता सहित अन्य सभी विवरण उपलब्ध कराने के निर्देश जिला पंचायतराज अधिकारी को दिये। उन्होंने एमआईएस पोर्टल में डेटा अपलोड करने में तेजी लाने, विलेज एक्शन प्लान (वीएपी) में कनेक्शन संख्या तथा धनराशि विवरण का काॅलम जोड़ने के निर्देश दिये।

उन्होंने कहा कि टंकियों में पानी के अधिक प्रेसर आदि के कारण पानी की अधिक बरबादी होती है। उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में नैनीताल शहर में पानी की अनावश्यक बरबादी को रोकने के लिए वाटर सेविंग नोज़ल्स लगाये जायें और इस कार्य को वार्डवार पूरा किया जाये। इसके साथ ही पूणे माॅडल का अध्ययन करते हुए शहर में पानी की अनावश्यक बरबादी को रोकने के लिए कारगर कार्य योजना तैयार की जाये।

बैठक में जल संस्थान की लालकुआं की 51.48 लाख धनराशि की दो डीपीआर, कोटाबाग की 53 लाख धनराशि की दो डीपीआर, हल्द्वानी आंगनबाड़ी केन्द्रो की 1.28 लाख धनराशि की एफएचटीसी की 8 डीपीआर, हल्द्वानी की 305.94 लाख रूपये धनराशि की 36 एफएचटीसी डीपीआर का अनुमोदन किया गया। पेयजल निगम के अन्तर्गत 221.40 लाख रूपये धनराशि की 10 एफएचटीसी डीपीआर जिसमें से ओखलकाण्डा की सात, बेतालघाट की 2 तथा रामनगर व कोटाबाग की एक-एक डीपीआर शामिल का अनुमोदन किया गया। पेयजल निगम के अन्तर्गत 4000.49 लाख रूपये धनराशि की 15 डीपीआर जिसमें ओखलकाण्डा की सात, रामनगर की 7 तथा बेतालघाट की एक डीपीआर शामिल है का अनुमोदन किया गया। पेयजल निगम के अन्तर्गत 52.68 लाख रूपये धनराशि की 10 डीपीआर जिसमें ओखलकाण्डा के 8 स्कूलों, भीमताल व रामगढ़ के एक-एक स्कूल की डीपीआर का अनुमोदन किया गया।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नरेन्द्र सिंह भण्डारी, डीएफओ टीआर बीजूलाल, परियोजना निदेशक अजय सिंह, जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी, अधीक्षण अभियंता जल संस्थान विशाल कुमार सक्सेना, अधिशासी अभियंता सिंचाई एचसी सिंह, अधिशासी अभियंता पेयजल निगम जीएस तोमर, मुख्य शिक्षा अधिकारी केके गुप्ता, जिला कार्यक्रम अधिकारी अनुलेखा बिष्ट, अधिशासी अभियंता जल संस्थान नन्द किशोर आदि उपस्थि थे।